December 6, 2021

स्वयं के रोजगार से अर्जित कर रही अच्छी आय मुर्गी पालन कर महिलाएं हो रही स्वालंबी

80 Views

रायगढ़ :- गांवों में पशुपालन के साथ ही मुर्गी पालन को हमेशा से वैकल्पिक पालन के तौर ही किया जाता रहा है। जिसे कभी भी व्यावसायिक दृष्टि से नही देखा गया था। लेकिन राज्य शासन की आजीविका संवर्धन योजनाओं और सहयोग से यह बदलाव गांवो मेें दिखाई दे रहा है। राज्य शासन की ग्राम सुराजी योजना अंतर्गत रायगढ़ ब्लाक के ग्राम पंचायत डोंगीतराई में मुर्गी शेड का निर्माण कर मुर्गी पालन और ब्रिकी कर समूह की महिलाएं आर्थिक रूप से सशक्त हो रही है। समूह की महिलाएं इस रोजगार के माध्यम से अच्छी आय अर्जित कर पा रही है।

शासन द्वारा मुर्गी शेड की स्वीकृति महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना से ग्राम पंचायत डोगीतराई में मुर्गी पालन के लिए शेड निर्माण का प्रस्ताव के पश्चात एक माह में ही प्रशासकीय स्वीकृति मिल गई। मुर्गी शेड निर्माण के लिए महात्मा गांधी नरेगा से 2 लाख 15 हजार, मजदूरी मद से 17 हजार 800 तथा सामग्री मद से 01 लाख 83 हजार 700 रुपये इस तरह कुल 4 लाख 3 हजार की स्वीकृति प्रदान की गई। प्रशासकीय स्वीकृति के पश्चात जनपद पंचायत रायगढ़ द्वारा कार्यादेश तथा शेड निर्माण हेतु स्थल चिन्हांकित कर तीन माह में ही शेड निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया गया। मुर्गी शेड निर्माण कार्य पूर्ण होने के पश्चात आजीविका संवर्धन हेतु 7 सदस्यों की गायत्री स्व-सहायता समूह को हस्तांतरित कर दिया गया। जिसके पश्चात महिला समूह को पशु चिकित्सा एवं पशुपालन विभाग रायगढ़ द्वारा 430 मुर्गी चूजा प्रदान किया गया। समूह की महिलाओं के संगठित प्रयास और मेहनत के फलस्वरूप आज महिला समूह द्वारा तीस किलोग्राम मुर्गी विक्रय कर 09 हजार तक की राशि प्राप्त की जा चुकी है। मुर्गी पालन से हो रहे अच्छे लाभ को देखते हुए समूह की महिलाओं में मुर्गी पालन को लेकर काफी उत्साह है। समूह की अध्यक्ष श्रीमती पार्वती वैष्णव का कहना है कि मुर्गी शेड के निर्माण होने तथा पशुपालन विभाग द्वारा नि:शुल्क चूजा मिलने के पश्चात समूह की महिलाओं की ही मेहनत है कि आज मुर्गी विक्रय प्रारंभ किया जा चुका है और अच्छा लाभ मिल रहा है। इसके अलावा आय में वृद्धि के लिए समूह कि महिलाएं अन्य गतिविधियां भी संचालित कर रही है। समूह की महिलाओं ने सुराजी गांव योजना के तहत गोठान स्थल में महिलाओं के आजीविका संवर्धन के लिए किए जा रहे कार्यो के लिए शासन एवं जिला प्रशासन को धन्यवाद दिया।

Author