October 22, 2021

जगन्नाथ बैरागी के जन्मदिन में पत्रकार बने मेजबान..मेहमान बने जनता,सरपँच, डीडीसी,समाजसेवी,डॉक्टर, व्यवसायी, और वरिष्ट नेता…

73 Views

सारंगढ़ :- यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अपने सम्बोधन में कहा था कि
कोई भी समाज, ऐसे पत्रकारों के बिना स्वतंत्र और न्यायसंगत नहीं हो सकता जो, व्यवस्थाओं की ग़लतियों की जाँच-पड़ताल कर सकें, नागरिकों तक सही जानकारी व सूचनाएँ पहुँचाएँ, सार्वजनिक हस्तियों को जवाबदेह ठहराएँ और सत्ता के सामने सत्य बोलें.” इसी कड़ी में सत्ता के सामने सच उजागर करने वाले 2 पत्रकारों को यूएन में नोबेल पुरस्कार से नवाजा भी गया। लेकिन हमारे देश मे सच बोलना और लिखना उतना ही मुश्किल है जितना रेत से तेल निकालना.. कुछ ऐसे ही वैचारिक मतभेद सारंगढ़ अंचल में जनप्रतिनिधियों और पत्रकारों में देखने और सुनने को मिल रही थी, जिसकी खाई अब धीरे-धीरे पटते दिख रही है,जो की अस्तित्व में आने वाले सारंगढ़ जिले के लिए अच्छी खबर है।

पत्रकारों की मेजबानी में मेहमान बने जनप्रतिनिधि-

हर दिन ग्राउंड ज़ीरो में जाकर रिपोर्टिंग करने वाले पत्रकार, फील्ड स्तर तक कि जानकारी लेकर प्रशासनिक अधिकारियों और जनता तक हर ख़बर की मुनादी करने वाले कलमकार जब मेजबानी करें और उपलक्ष्य किसी पत्रकार के जन्मदिन का हो तो बात ही खुद में निराली हो जाती है। अवसर था युवा पत्रकार जगन्नाथ बैरागी का जन्म दिन और मेजबानी में थे नरेश चौहान, के नेतृत्व में अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति सारंगढ़ अंचल के कृष्णा महिलाने,कैलाश नायक,लक्ष्मण लहरे समीप,मिथुन,राजेश,नवेंद्र,सन्तोष,गौतम,भुवनेश्वर समेत दर्जनों पत्रकार बन्धु, जिन्होंने आत्मीयता के साथ जनप्रतिनिधियों की मेजबानी की।

पत्रकार हमारी आंख है इनके सिवा देश को आईना दिखाने वाला कोई नही-अरुण मालाकार

कार्यक्रम में बातचीत के दौरान अरुण मालाकार ने पत्रकारों और अन्य उपस्थित साथियों को कहा कि पत्रकार ही समाज के आंख होते हैं अगर इन्हें ही परेशान और प्रताड़ित किया गया तो समझो समाज और देश ने खुद ही अपनी आंख फोड़ दी हो। इसलिए सच्चे पत्रकारिता करने वालों को किसी से डरने की जरूरत नही है। अगर मैं भी गलत करता हूँ तो मेरे बारे में भी लिखिए ताकि मैं भविष्य में खुद में सुधार कर जनता का सेवक बन सकूं।

पत्रकार और सरपँच एक परिवार के दो सदस्य, मनमुटाव हो सकता है पर मतभेद नही- मोती पटेल(जिला सरपँच संघ अध्यक्ष)

प्रदेश सरपँच संघ सचिव एवं जिला सरपँच संघ अध्यक्ष ने कहा कि पत्रकार और सरपँच दोनो समाज हित में काम करने वाले एक ही परिवार के फो सदस्य हैं। समाज की उन्नति हेतु दोनो की आवश्यकता है। परिवार में वैचारिक मनमुटाव होना लाजमी है, लेकिन संकट के समय दोनो एक थे, एक हैं औऱ एक रहेंगे।

पुलिस-जनप्रतिनिधि और पत्रकारों की एकता से ही समाज की तरक्की सम्भव- नरेश चौहान

अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति सारंगढ़ के अध्यक्ष नरेश चौहान ने युवा पत्रकार जगन्नाथ बैरागी के जन्मदिन के अवसर पर आपसी चर्चा दौरान कहा कि अगर पुलिस-पत्रकार-जनप्रतिनिधियों में आपसी सामंजस्य नही बन पाया तो ये समाजहित में सही नही रहेगा। क्योंकि पत्रकार जान में जोखिम डालकर ग्राउंड ज़ीरो से कोई खबर कवरेज करता है तो उसे पुलिस और जनप्रतिनिधियों के साथ कि आवश्यकता होती है। उस स्थिति में अगर राजनीतिक दबाव और गलत पुलिसिया कार्यवाही होती है तो कुछ पत्रकारों के मनोबल को ठेस पहुंचता है,अब ऐसी स्थिति निर्मित हुवी तो मजबूरन पत्रकारों को ऐसे पुलिस और जनप्रतिनिधियों के बायकॉट करना होगा। साथ ही नरेश चौहान ने नाम न लेते हुवे अंचल के कुछ पत्रकारों को भी कहा कि कुछ पत्रकार डरा-धमकाकर गलत काम को अंजाम दे रहे है,ऐसे पत्रकारों के साथ हमारा संघ नही है। ऐसे पत्रकार ही पत्रकारों को बदनाम कर रहे है। ऐसे लोगों की पत्रकारिता की उम्र लंबी नही है।

कॉंग्रेस जिलाध्यक्ष अरुण मालाकार, जिला सदस्य,जिला सरपँच संघ अध्यक्ष,जनपद सदस्य,डॉक्टर,अधिकारी सहित कई जनप्रतिनिधी हुवे कार्यक्रम में शामिल-

पत्रकार जगन्नाथ बैरागी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में कॉंग्रेस जिलाअध्यक्ष अरुण मालाकार,जिला पंचायत सदस्य सीता चिंता पटेल, सरपँच संघ प्रदेश सचिव मोती पटेल, जनपद सदस्य जया कृष्णा पटेल, वरिष्ठ कांग्रेस पदाधिकारी सूरज तिवारी,प्रशिद्ध समाजसेवी अजय बंजारे, अंचल के सुप्रसिद्ध डॉक्टर आनंद प्रधान, समाजसेवी बंटू महराज, कांग्रेस महामंत्री भानुप्रताप पटेल,सरपँच प्रतिनिधि श्याम पटेल,व्यवसायी नरेश साहू लेन्ध्रा,जिला वैष्णव युवा सचिव शांतिदास, सारंगढ़ उपाध्यक्ष वैष्णव समाज केशव महराज, सहित अन्य जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति रही, सभी ने युवा पत्रकार को जन्मदिन की बधाई देने के साथ निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता करने की सलाह दी।

Author