January 20, 2022

जिला पंचायत अध्यक्ष, कलेक्टर, सीईओ ने गौठान मेला का किया निरीक्षण स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित सामग्रियों को देखकर की सराहना

72 Views

महासमुंद :- सुराजी गांव नरवा, गरवा, घुरूवा एवं बाड़ी योजनांतर्गत जिले के चयनित 100 गौठानों में गौठान मेला शनिवार 4 दिसम्बर से 7 दिसम्बर तक मनाया जा रहा है। जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती उषा पटेल, कलेक्टर श्री डोमन सिंह एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एस. आलोक ने पिथौरा विकासखण्ड के परसापाली एवं महासमुंद सरेकेल के गौठान मेला का निरीक्षण किया। इस दौरान गौठान मेला में स्थानीय जनप्रतिनिधि, सरपंच, आस-पास के गांव के महिला स्व-सहायता समूह, रोजगार सहायक, ग्राम पंचायत सचिव, संबंधित विभाग के अधिकारी-कर्मचारी सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

गौठान मेला में जिला पंचायत अध्यक्ष, कलेक्टर, जिला सीईओ ने गौठानों में महिला स्व-सहायता द्वारा उत्पादित सामग्रियों का अवलोकन कर उनके द्वारा निर्मित सामग्रियों की सराहना की। बाड़ी में महिलाओं द्वारा लगाए गए जैविक साग-सब्जियों को भी देखा। उन्होंने ग्रामीणों से गौठानों में पशुओं के लिए पैरादान करने का आग्रह किया। जिन गौठानों में अच्छे कार्य किए जा रहे है। ऐसे गौठानों को देखकर अधिकारी सभी गौठानों में इसी तरह से कार्य कराएं। सभी गौठानों में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएगी। कृषि, उद्यानिकी, मत्स्य, पशु विभाग सहित अन्य संसाधनों से महिलाओं के लिए गौठानों में ही कार्य उपलब्ध करायी जाएगी और उनके प्रशिक्षण की व्यवस्था भी कराई जाएगी। महिला स्व-सहायता समूह की महिलाएं यदि मुर्गी पालन, मछली पालन, बकरी पालन, बत्तख पालन या अन्य गतिविधियां करना चाहती है, उन्हें निःशुल्क में चुजा, फ्राई उपलब्ध कराया जाएगा।

इसी तरह उद्यानिकी विभाग द्वारा जो महिलाएं फूलों से गुलदस्ता, बुके, हार सहित अन्य प्रकार की सामग्री बनाना चाहती है, उन्हें भी प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। ताकि अधिक से अधिक लोगों को गांव में ही रोजगार मिलें और आमदनी प्राप्त हो। ताकि ग्रामीणों को अपने गांव छोड़कर अन्य जगह काम की तलाश के लिए भटकना न पड़े। बताया गया कि महासमुंद जिले में गोधन न्याय योजना के तहत ग्रामीण पशुपालकों ने लगभग 4 करोड़ रुपए से अधिक की गोबर की बिक्री की है। इस दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष, कलेक्टर, जिला सीईओ ने वैक्सीनेशन में अच्छा काम करने वाली मितानिन, ऑगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सरपंचों, रोजगार सहायक सहित अन्य लोगों को सम्मानित किया।

Author