January 20, 2022

कलेक्टर ने आजीविका से जुड़े विभागों की ली समीक्षा बैठक पारंपरिक व्यवसायों को बढ़ावा देने सभी विभाग मिलकर करें काम- कलेक्टर श्री भीम सिंह

56 Views

सभी गौठानों में मूलभूत सुविधाओं के साथ 5-5 आजीविका गतिविधियों का हो संचालन

रायगढ़ :- कलेक्टर श्री भीम सिंह ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में लाइवलीवुड की बैठक ली। इस दौरान उन्होंने ग्रामीण आजीविका संवर्धन के अन्तर्गत विभिन्न ग्रामों के गोठानों में संचालित गतिविधियों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि गोठानों में कम से कम पांच गतिविधियों का संचालन सुनिश्चित किया जाए। इसके साथ ही गोठानों में विद्युत व्यवस्था के साथ शेड का निर्माण जल्द पूर्ण किया जाए।

बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने रूरल इंडस्ट्रीयल पार्क के अन्तर्गत गोठानों में व्यवसायिक गतिविधियों के संचालन के लिए कार्य योजना निर्माण के संबंध में चर्चा किए। उन्होंने निर्देश दिया कि समूह द्वारा निर्मित उत्पादों का टाईअप के माध्यम से विक्रय पर विशेष ध्यान दिया जाए। जिससे समूह का निश्चित आय बन सके। कलेक्टर श्री सिंह ने छाल, हिर्री, बैहामुडा जैसे विभिन्न ग्रामों में संचालित की जा रही गतिविधियों की समीक्षा की तथा समूह के उत्पादन व ब्रिकी के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि हॉटल एवं उद्योग के अलावा विभिन्न संस्थाओं में समूह का टाईअप के माध्यम से सामग्री का विक्रय किया जाए। इस दौरान उन्होंने उद्यानिकी विभाग के कार्यो की समीक्षा की। जिस पर अधिकारी ने बताया कि विभाग द्वारा सामुदायिक बाड़ी का निर्माण किया गया है।

इसके अलावा मुनगा रोपण के साथ ही गौठानों में वृक्षारोपण का कार्य किया जा रहा है। पशुपालन विभाग को गोठानों के मल्टी एक्टीविटी सेंटर में सहभागिता को विस्तार देने के निर्देश दिए। जिस पर विभागीय अधिकारी ने बताया कि वर्तमान में गोठानों में मुर्गी, बकरी तथा गाय का वितरण किया गया है। इस दौरान कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि पारम्परिक व्यवसाय को बढ़ावा देने की दिशा में कार्य किया जाए। इसके लिए सभी विभाग अपनी सहभागिता सुनिश्चित करें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ऐसे प्रोडक्ट को चिन्हिंत किया जाए जिसकी मांग अधिक है। ऐसे एक्टीविटी को अन्य गोठानों में भी प्रारंभ किया जाए। इस दौरान कलेक्टर श्री सिंह ने आदिवासी विकास विभाग के कार्यों की समीक्षा की। जिस पर सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग ने बताया कि वन अधिकार पत्र प्राप्त हितग्राहियों के भूमि समतलीकरण, कुआंं व डबरी निर्माण के साथ अन्य कार्य भी किए जा रहे है। जिससे उसकी आजीविका को बढ़ावा दिया जा सके।
इस दौरान कलेक्टर श्री सिंह ने कृषि विभाग को निर्देशित किया कि केसीसी निर्माण को बढ़ाया जाए। इसके साथ ही अन्य योजना एवं कार्यो के माध्यम से अधिक से अधिक लोगों को लाभ पहुंचाने की दिशा में कार्य करें। कलेक्टर श्री ङ्क्षसह ने मछली पालन, रेशम विभाग एवं कृषि विभाग के कार्यो की समीक्षा की। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि विभागीय योजनाओं को आजीविका संवर्धन के कार्यो से जोड़े। इसके पश्चात कलेक्टर श्री सिंह ने वनधन केन्द्र की जानकारी ली। उन्होंने वन विभाग द्वारा संचालित वनधन केन्द्र के लिस्ट बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिन वनधन केन्द्र में वर्तमान में एक्टीविटी संचालित नहीं हो रही है। वहां एक्टीविटी चयन कर शीघ्र्र प्रारंभ किया जाए।
बैठक में डीएफओ धरमजयगढ़ श्री मणिवासगन एस, डीएफओ रायगढ़ श्री प्रणय मिश्र, सीईओ जिला पंचायत डॉ.रवि मित्तल, पशुपालन विभाग श्री आर.एच.पाण्डेय, उद्यानिकी, मत्स्य एवं लाईवलीहुड से संबंधित अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।

Author