December 6, 2021

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद सीपत (बिलासपुर) इकाई द्वारा विश्रामगृह के समीप रानी लक्ष्मीबाई जयंती नारी शक्ति दिवस के रूप में मनाया एवं प्रतिभावान बेटियों का सम्मान किया

32 Views

बिलासपुर :- अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद सीपत इकाई द्वारा विश्रामगृह के समीप रानी लक्ष्मीबाई जयंती नारी शक्ति दिवस के रूप में मनाया। प्रतिभावान बेटियों का सम्मान किया गया। इसमें परिषद के सदस्यों ने नारी शक्ति दिवस पर गीत, भाषण, निबंध व रंगोली स्पर्धा आयोजित किया। इसमें 85 प्रतिभागियों ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिए। इस दौरान मुख्य अतिथि के रूप में जिला पंचायत सदस्य नूरी कौशिल ने कहा कि नारी सृजन की शक्ति है। आज की नारी कहीं पर भी कमजोर नहीं है, नारी से ही संसार सुंदर समृद्ध और चलायमान है।

दुनिया के कल्याण के लिए कोई अवसर नहीं है जब तक की महिला की स्थिति मंे सुधार नहीं हो जाए। उन्होंने नारी सशक्तिकरण को बढ़ावा देने पर जोर दिया। विशिष्ट अतिथि के रूप में शहीद विनोद कौशिक की माता बृहस्पति देवी कौशिक, छाया निर्मलकर परिषद वक्ता वैशाली जायसवाल ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। प्रतियोगिता के बाद उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागियों को स्मृति चिन्ह, पेन सहित अन्य पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। आयोजन को सफल बनाने में भाजयुमो मंडल के अध्यक्ष तुषार चंद्राकर, ललित यादव, सुनील निर्मलकर, नगर मंत्री सोनू निर्मलकर, विक्रम सिंह, दिनेश, विजय, अमित पटेल, रोहित सर्वे, कुलदीप वस्त्रकार, शशिकांत वस्त्रकार, वीरेंद्र साहू, सूर्या चंद्राकर, दिलचंद रजक, भूति विभूषण कौशिक, श्रीकांत रजक, देवेंद्र चंद्राकर, धनेश्वरी धीवर, रानी मरावी सहित अन्य अभाविप के कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

बच्चों के सपनों को साकार करना हमारा कर्तव्य:- शशि

खम्हरिया हायर सेकेंडरी स्कूल में बाल दिवस मनाया गया। इस अवसर पर हाईस्कूल की प्राचार्य शशिकिरण किंडो ने बच्चों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि बच्चों के सपनों को साकार करना हमारा कर्तव्य है। उन्होंने शिक्षकों को इस संबंध में कार्य करने की बात कही। सरपंच गुलाबबाई कंवर, उपसरपंच पूजा अग्रवाल, मोहम्मद नजीर हुसैन, सचिन बर्मन, खिलेश्वर साहू,जहान कुरैशी कार्यक्रम में शामिल रही।

वक्ताओं ने छात्रों को देश के भविष्य बताते हुए विचार रखे। इसके साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू की जीवन वृत्ति के बारे में बताते हुए उन बच्चों की उज्जवल भविष्य की कामना किए। आंनद मेला का पालक और बच्चों ने लुत्फ उठाए। नवमी से बारहवीं कक्षा के छात्र छात्राओं ने स्टाल में खाने के स्टाल लगाए। शशिकिरण किंंडो ने निरीक्षण कर श्रेष्ठ स्टाल को पुरस्कृत किए जाने की बात कही।

Author